Farmer Protest Supreme Court CJI DY Chandrachud On Traffic Jam in Delhi Chalo March

Farmer Protest Supreme Court CJI DY Chandrachud On Traffic Jam in Delhi Chalo March
Spread the love

Farmers Protest: किसानों के ‘दिल्ली चलो मार्च’ को देखते हुए बैरिकेड्स, कंक्रीट ब्लॉक, लोहे की कीलें और कंटेनरों की दीवार लगाई गई है. ऐसे में दिल्ली से लगते बॉर्डर सहित कई जगहों पर जाम देखा गया है. इसका संज्ञान लेते हुए सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ ने मंगलवार (13 फरवरी) को टिप्पणी की कि वकील यातायात में फंस जाते हैं तो उनके साथ सहयोग किया जाएगा. 

सीजेआई चंद्रचूड़ और जस्टिस जेबी पारदीवाला और न्यायमूर्ति मनोज मिश्रा की बेंच ने दिन की कार्यवाही की शुरुआत में वकीलों से कहा कि अगर किसी को यातायात की स्थिति के कारण कोई समस्या होती है तो मुझे बताएं हम समायोजन कर लेंगे.

दरअसल, गुरुग्राम- दिल्ली नेशनल हाईवे पर सुबह से ही वाहनों की लंबी कतारें देखी गईं. ऐसा ही गाज़ीपुर सीमा सहित कई जगहों पर देखा गया. इसके अलावा  किसानों को दिल्ली में प्रवेश से रोकने के लिए, टिकरी, सिंघू और गाज़ीपुर सहित दिल्ली की सीमाओं पर सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है. 

न्यूज एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक, अर्धसैनिक बलों की 64 और हरियाणा पुलिस की 50 कंपनियों सहित कुल 114 कंपनियां विभिन्न जिलों में तैनात किया गया है. दंगा-रोधी उपकरणों से लैस ये इकाइयां सीमावर्ती इलाकों और संवेदनशील जिलों में तैनात हैं. इसके अतिरिक्त, किसी भी गतिविधियों पर नज़र रखने के लिए ड्रोन और सीसीटीवी कैमरों जैसी निगरानी तकनीकों का उपयोग किया जा रहा है. 

किसानों की क्या मांग है?
फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की कानूनी गारंटी देने समेत अन्य मांगों को लेकर केंद्रीय नेताओं के साथ बैठक बेनतीजा रहने के बाद किसानों ने मंगलवार को सुबह अपना ‘दिल्ली चलो’ मार्च शुरू किया है., इस मार्च में शामिल प्रदर्शनकारियों ने अंबाला में शंभू बॉर्डर पर लगाए गए बैरिकेड को हटाने की कोशिश की तो भीड़ को तितर-बितर करने के लिए हरियाणा पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े. 

इनपुट आईएएनएस और भाषा से भी.

ये भी पढ़ें- दिल्ली कूच से पहले कांग्रेस पर भड़के किसान नेता, बोले- वे बीजेपी के बराबर ही दोषी

 

#Farmer #Protest #Supreme #Court #CJI #Chandrachud #Traffic #Jam #Delhi #Chalo #March


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *