RBI governor Shaktikanta Das says no worry to fintech sector amid ongoing paytm crisis | RBI on Paytm: फिनटेक के लिए नहीं है चिंता की बात, आरबीआई गवर्नर बोले

RBI governor Shaktikanta Das says no worry to fintech sector amid ongoing paytm crisis | RBI on Paytm: फिनटेक के लिए नहीं है चिंता की बात, आरबीआई गवर्नर बोले
Spread the love

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने आज गुरुवार को पेटीएम के ऊपर हुए हालिया एक्शन के बाद फिनटेक सेक्टर की चिंता को दूर करने का प्रयास किया. सेंट्रल बैंक के गवर्नर ने कहा कि पेटीएम के ऊपर हुए एक्शन से फिनटेक को घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यह एक्शन एक एंटिटी से जुड़ा हुआ है. साथ ही उन्होंने कहा कि बैंकिंग रेगुलेटर की तरफ से हर किसी को पर्याप्त समय दिया जाता है.

छठी बार नहीं बदली ब्याज दर

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास तीन दिनों तक चली एमपीसी के नतीजों के ऐलान के बाद पत्रकारों के सवालों का जवाब दे रहे थे. इससे पहले चालू वित्त वर्ष की आखिरी मौद्रिक नीति समिति बैठक में रेपो रेट को लगातार छठी बार स्थिर रखा गया. रिजर्व बैंक ने महंगाई को लेकर अनिश्चितता के चलते रेपो रेट को 6.5 फीसदी पर बरकरार रखा है.

पेटीएम संकट पर आएगा एफएक्यू

पेटीएम संकट को लेकर पूछे जा रहे सवालों के मद्देनजर गवर्नर दास ने कहा कि सेंट्रल बैंक इस संबंध में जल्द ही एफएक्यू जारी करेगा. उन्होंने कहा कि सेंट्रल बैंक की ओर से सभी रेगुलेटेड एंटिटीज को किसी समस्या के समाधान या अनुपालन के लिए पर्याप्त समय दिया जाता है. रेगुलेटेड एंटिटीज में पेटीएम भी शामिल है और पेटीएम को भी सेंट्रल बैंक ने अनुपालन के लिए पर्याप्त समय दिया.

सिस्टम को लेकर चिंता की बात नहीं

उन्होंने किया कि पर्याप्त समय दिए जाने के बाद जब अनुपालन नहीं होता है, तब जाकर सेंट्रल बैंक की ओर से एक्शन लिया जाता है. अनुपालन में खामी जिस स्तर की होती है, रिजर्व बैंक का एक्शन भी उसी स्तर का होता है. उन्होंने कहा- अगर कोई एंटिटी अनुपालन करे तो हमें एक्शन लेने की जरूरत ही क्यों पड़ेगी. हम एक जिम्मेदार रेगुलेटर हैं. उन्होंने कहा कि सिस्टम को लेकर चिंता करने की कोई वजह नहीं है.

रिजर्व बैंक गवर्नर ने सवालों का जवाब देते हुए कहा कि किसी खास मामले या एंटिटी को लेकर बहुत कुछ कहने की जरूरत नहीं है. उन्होंने अपनी बात को समझाने के लिए साल पॉइंट में स्थिति को स्पष्ट किया…

आरबीआई गवर्नर के सात पॉइंट

रिजर्व बैंक फाइनेंशियल सेक्टर में इनोवेशन को सपोर्ट करता रहा है और आगे भी करता रहेगा.
फिनटेक, इनोवेशन और टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देने की रिजर्व बैंक की प्रतिबद्धता पर कोई संदेह नहीं होना चाहिए.
हम संबंधित एंटिटी (पेटीएम) के साथ काफी समय से संवाद कर रहे थे.
पेटीएम इश्यू पर रेगुलेटरी डिटेल्स शेयर करना उचित नहीं है.
लंबी अवधि में सफलता के लिए हर एंटिटी को इन पहलुओं का ध्यान रखना चाहिए.
आरबीआई के सभी कदम सिस्टम की स्थिरता और ग्राहकों के हितों की सुरक्षा के लिए हैं.
पेटीएम इश्यू पर हम जल्द एफएक्यू जारी करेंगे.

ये भी पढ़ें: इन दो नए फंड ऑफर में पैसे लगाने का मौका, निफ्टी के आईटी और बैंक इंडेक्स पर है बेस्ड

#RBI #governor #Shaktikanta #Das #worry #fintech #sector #ongoing #paytm #crisis #RBI #Paytm #फनटक #क #लए #नह #ह #चत #क #बत #आरबआई #गवरनर #बल


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *